शहीदी शताब्दी के मौके इंडिया गेट पर दिल्ली कमेटी ने करवाई मैराथन दौड़

नई दिल्ली (27 जून 2016) दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा बाबा बंदा सिंह बहादर की तीसरी शहीदी शताब्दी के अवसर पर स्वस्थ शरीर का संदेश देने के लिए मैराथन का आयोजन किया गया। इंडिया गेट के सी-हैसागन लाॅन से गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब के लगभग 5 किलोमीटर लम्बें रूट पर हजारों बच्चों, नौजवानों, बुजुर्गो तथा स्त्रियों ने दौड़ का हिस्सा बनकर ‘फस्र्ट इंडिया विक्ट्री रन’ को  कामयाब बनाया।
DSC_7575 DSC_7529

कमेटी अध्यक्ष मनजीत सिंह जी.के. ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि धर्म बचाने का कार्य करने के लिए भी स्वस्थ शरीर की सब से पहले जरूरत होती है। उन्होंने कहा कि शहीदी शताब्दी के अवसर पर कमेटी ने अलग-अलग किस्म के कार्यक्रम रखकर सभी समुदायों के साथ जहां सांझ डालने की कोशिश की है वहीं हर उम्र तथा वर्ग के अनुसार कार्यक्रमों का मसौदा तैयार किया है। जी.के. ने धर्म, रंग तथा जात से ऊपर उठ कर मैराथन में भाग लेने आये लोगों का स्वागत करते हुए बाबा जी की शहादत का संदेश पूरे देश में जाने का भी दावा किया।
जी.के. ने कहा कि शताब्दी आयोजनों से पहले हिन्दुस्तानी सिर्फ अंग्रेजों की गुलामी को ही जंगे आजादी की लड़ाई मानते थे पर अब कमेटी की कोशिशों से मुगलों की गुलामी के खिलाफ बाबा जी द्वारा लड़ी गई लड़ाई को भी देशवासी जंगे आजादी की लड़ाई के रूप में मान्यता दे रहें हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह बिना धार्मिक भेदभाव के गुरूघरों में श्रृद्धालू आते हैं उसी प्रकार मैराथन में भाग लेने वाले लोगों ने सिख धर्म की मकबूलियत हर समुदाय में होने की गवाही भर दी है।
मैराथन को हरी झंडी जी.के. ने दिखाई। मैराथन में पहले 10 नम्बरों पर आने वाले लड़के तथा लड़कियों को अलग-अलग ग्रुप मंे प्रबंधको द्वारा गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब मंे पदक तथा प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया गया। धार्मिक सद्भाव का नजारा विजेताओं के बीच भी नजर आया। पहले नम्बर पर हिन्दू, दुसरे पर सिख तथा तीसरे पर मुस्लिम धर्म में आस्था रखने वाले विजेता रहे।
इस अवसर पर इंडिया गेट लाॅन में गायक सिमरनजीत सिंह ने बाबा जी के बारे अपने गाये धार्मिक गीत की पेशकारी भी की। कमेटी के मुख्य सलाहकार कुलमोहन सिंह, धर्मप्रचार कमेटी चेयरमैन परमजीत सिंह राणा, पूर्व विधायक जतिन्दर सिंह शंटी, कमेटी सदस्य तनवंत सिंह, कैप्टन इन्द्रप्रीत सिंह, परमजीत सिंह चंडोक, गुरविन्दर पाल सिंह, खेल निदेशक स्वर्णजीत सिंह बराड़, अकाली नेता विक्रम सिंह, पुनीत सिंह चंडोक, हरजीत सिंह बेदी, पुनप्रीत सिंह तथा गगनदीप सिंह छियासी ने खिलाड़ियों का हौसला बढाया।

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें