राजा बरी, कनीमोई सहित सभी अरोपी निर्दोष ! तो घोटाला हुआ था कि नहीं ?


-नित्यानंद गायेन, नई दिल्ली,
साल 2010 के 1.76 लाख करोड़ रुपये के 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले के छह साल बाद सीबीआई की विशेष कोर्ट ने गुरुवार, 21 दिसंबर को फैसला सुनाते हुए मामले में मुख्य आरोपी पूर्व दूरसंचार मंत्री ए. राजा और डीएमके नेता कनीमोई समेत सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा, ’अभियोजन किसी भी आरोपी के खिलाफ किसी भी आरोप को साबित करने में नाकाम रहा है।’
कोर्ट ने कहा कि सरकारी वकील आरोप साबित करने में आरोप नाकाम रहे। कोर्ट ने यह भी कहा कि सीबीआई आरोप साबित करने में नाकाम रही।
मामले में पटियाला हाउस कोर्ट की सीबीआई विशेष अदालत ने पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और डीएमके राज्यसभा सांसद कनिमोई समेत 17 आरोपियों को बरी कर दिया है। अदालत का फैसला सुनते ही कनिमोई रोने लगी। अदालत के फैसले के बाद कपिल सिब्बल ने कहा कि 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन पर हमारा ’जीरो लॉस’ का दावा सिद्ध हो गया और ये मामला संसद में उठाएंगे। उन्होंने कहा कि आज मेरी बात सिद्घ हो गई है कि कोई करप्शन और कोई घाटा नहीं था। अगर घोटाला है तो झूठ का स्कैम है। विपक्ष और विनोद राय के झूठ का है। विनोद राय को देश के सामने माफी मांगनी चाहिए।
मनमोहन सिंह सरकार में पूर्व वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम ने कहा कि ’हमारी सरकार पर लगे बड़े घोटाले का आरोप झूठा था। आज यह साबित हो गया है।’ फैसला आने के बाद खुशी जाहिर करते हुए, कनिमोड़ी ने कहा, ’मैं अपने उन सभी समर्थकों का धन्यवाद करती हूं, जो इस मुश्किल दौर में मेरे साथ खड़े रहे।’ डीएमके के वरिष्ठ नेता दुराय मुरुगन ने कहा कि विजय अब शुरू हुई, राजनैतिक उद्देश्यों के साथ यह मामला हमारे ऊपर थोपा गया था। हमारे खिलाफ षड्यंत्र रचे गए थे, लेकिन अब सब कुछ साफ हो गया है। द्रमुक नेता आरएस भारती ने कहा कि यह एक झूठा केस था। पिछले 2 विधानसभा चुनावों के दौरान यह मामला हमारे खिलाफ इस्तेमाल किया गया था, लेकिन अब यह गलत साबित हुआ है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि 2जी आवंटन में अनियमितता हुई थी। थी। नीलामी के जरिए लाइसेंस नहीं दिए गए थे। कांग्रेस को कोर्ट के फैसले को सर्टिफिकेट नहीं समझना चाहिए। इस पर एजेंसी ध्यान देगी।
2जी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाले के मामले के 17 आरोपियों में 14 व्यक्ति और तीन कंपनियां (रिलायंस टेलिकॉम, स्वान टेलिकॉम, यूनिटेक) शामिल थीं।
2जी घोटाला साल 2010 में सामने आया जब भारत के महालेखाकार और नियंत्रक (कैग) ने अपनी एक रिपोर्ट में साल 2008 में किए गए स्पेक्ट्रम आवंटन पर सवाल खड़े किए थे।
2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में कंपनियों को नीलामी की बजाए पहले आओ और पहले पाओ की नीति पर लाइसेंस दिए गए थे, जिसमें भारत के महालेखाकार और नियंत्रक के अनुसार सरकारी खजाने को अनुमानित एक लाख 76 हजार करोड़ रुपयों का नुकसान हुआ था।
कांग्रेस नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार के दौरान 2008 में दूरसंचार विभाग द्वारा 2जी स्पेक्ट्रम के लाइसेंस आवंटन में कथित तौर पर अनियमितता हुई थी, जो 2010 में कैग की रिपोर्ट के बाद व्यापक स्तर पर सामने आया था।
गौरतलब है कि इस मामले पर कैग की रिपोर्ट आने के बाद तत्कालीन विपक्ष भारतीय जानता पार्टी ने महीनों तक संसद नहीं चलने दिया था!
चुनावी भाषणों से लेकर विदेशी दौरों तक कांग्रेस को जिस 2जी घोटाले के लिए घेरा जाता था, सबूतों के अभाव में स्पेशल कोर्ट ने इस घोटाले से जुड़े पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और डीएमके सांसद कनिमोड़ी समेत सभी 17 लोगों को गुरुवार को बरी कर दिया।
2जी घोटाले में सीबीआई की विशेष अदालत के फैसले के बाद बीजेपी और कांग्रेस के बीच सियासी तकरार तेज हो गई है। कांग्रेस ने जहां बीजेपी और पूर्व सीएजी विनोद राय पर निशाना साधा है वहीं बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सीबीआई को ही कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने कहा है कि सीबीआई के अधिकारियों ने ईमानदार तरीके से इस केस में काम नहीं किया। उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों पर भी केस में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। फैसला आने के बाद मीडिया से बात करते हुए स्वामी ने कहा कि वो इस फैसले से निराश हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को इसके खिलाफ हाईकोर्ट जाना चाहिए।
स्वामी ने जांच में सीबीआई की तरफ से लापरवाही बरते जाने पर कहा कि सीबीआई के कई बड़े अधिकारी पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम के प्रभाव में थे। गौरतलब है कि, 2जी मामले में सुब्रमण्यम स्वामी ने ही सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी।
आम आदमी पार्टी (आप) के नेता आशुतोष ने अदालत द्वारा 2जी घोटाले में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और सांसद कनिमोझी को बरी किए जाने और आदर्श घोटाले में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक च्वहाण को भी बरी किए जाने पर निराशा जताई है। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा है कि जल्द ही विजय माल्या और ललित मोदी भी छूट जाएंगे। सोशल मीडिया ट्विटर पर आशुतोष ने लिखा है, “आदर्श घोटाले में अशोक चव्हाण भी छूट गये, 2ळ में राजा छूट गये, विजय माल्या और ललित मोदी भी छूट जायेंगे । जय जय मोदी जी !!” एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, 2ळ फैसले के बाद विजय माल्या और ललित मोदी के हौसले काफी बुलंद है । उनको पूरा भरोसा है कि जैसे 2ळ के आरोपी ईमामदार साबित हो गये वैसे ही वो भी ईमानदार साबित होंगे । उन्हें मोदी जी पर पूरा भरोसा है।”

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें