भारतीय विश्वविद्यालय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में शुमार हो सकते हैं : राष्ट्रपति

Image result for इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंसभाषा: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज कहा कि भारतीय शिक्षा संस्थानों की योग्यता में कमी नहीं है और वे विश्व के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में शामिल हो सकते हैं।
राष्ट्रपति ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस :आईआईएससी: बेंगलुर को टाइम्स हायर एजुकेशन :टीएचई: की 2017 की ‘सर्वश्रेष्ठ लघु विश्वविद्यालयों’ श्रेणी मेंंंं शीर्ष 10 संस्थानों में शामिल होने पर बधाई दी।

मुखर्जी ने कहा, ‘‘मैं सम्मानित संस्थान के संकाय के सभी कर्मचारियों और छात्रों को बधाई देता हूं, कि उन्होंने विश्व में उच्च शिक्षा के संस्थानों की सूची में शामिल होने के लिए प्रयास किये जाने के बारे में मेरे द्वारा बार बार किये गये आह्वान पर प्रतिक्रिया दिखायी और वह इसमें सफल हुये।’’ राष्ट्रपति मुखर्जी ने आईआईएससी के निदेशक को भेजे एक संदेश में कहा, ‘‘यह उपलब्धि मेरे दृढ़ विश्वास को दोहराती है कि भारतीय शिक्षण संस्थानों में योग्यता की कमी नहीं है और वे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में शामिल हो सकते हैं।’’ उल्लेखनीय है कि टाइम्स हायर एजुकेशन :टीएचई: ने 2017 की ‘सर्वश्रेष्ठ लघु विश्वविद्यालयों’ की रैंकिंग में आईआईएससी, बेंगलुर को आठवां स्थान दिया है।

मुखर्जी ने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है कि यह संस्थान अपना प्रयास जारी रखेगा और भविष्य में बड़ी से बड़ी उपलब्धियां हासिल करेगा।’’

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें