फसलों की ठूंठ जलाने पर रोक लगाएगी उप्र सरकार

Image result for Fire in crop

भाषा: उत्तर प्रदेश सरकार फसलें कटने के बाद बचे ठूंठ को जलाये जाने के कारण होने वाले गम्भीर वायु प्रदूषण को रोकने के लिये इन वनस्पति अवशेषों को जलाने पर रोक लगाने पर विचार कर रही है।
राज्य के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आज ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि फसलों की ठूंठ :पौधे का सबसे निचला हिस्सा: जलाये जाने से काफी वायु प्रदूषण होता है। यह आम जनता के स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है।

उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘हम स्थिति पर बहुत करीब से नजर रख रहे हैं और पूरे प्रदेश में ठूंठ जलाये जाने पर प्रतिबंध लगाने पर विचार किया जा रहा है। हाल के कुछ वष्रों में ठूंठ जलाने से देश के विभिन्न हिस्सों में धुंध छाने की घटनाएं प्रकाश में आयी हैं। कई बार तो इसके कारण असमय बरसात भी हुई है। इससे फसलों को नुकसान होता है।’’ शाही ने कहा कि ठूंठ को जलाने के बजाय उसे पशुओं के लिये चारे के रूप में इस्तेमाल करना बेहतर होगा। राज्य सरकार इस दिशा में सहयोग के लिये किसानों को प्रोत्साहित करेगी।

राज्य के छोटे तथा सीमान्त किसानों के कर्ज माफी के वादे के सवाल पर कृषि मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इस दिशा में गम्भीर प्रयास कर रही है और जल्द ही कोई ठोस निर्णय लिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस वक्त उत्तर प्रदेश में एक करोड़ 83 लाख सीमान्त किसान हैं। कुल मिलाकर दो करोड़ से ज्यादा किसानों को कर्जमाफी का फायदा मिलेगा।

शाही ने कहा कि अनेक ऐसे किसान हैं, जिन्हें बैंक से कर्ज नहीं मिला है। हम कर्जमाफी का खाका तैयार करते वक्त इस पहलू का भी ध्यान रखेंगे।

उन्होंने कहा कि आगामी अप्रैल के अंत तक राज्य की 100 मंडियों को इंटरनेट से जोड़ा जाएगा। इससे कृषि उत्पादों की खरीद और बिक्री में पारदर्शिता आएगी।

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें