प्रणब मुखर्जी का आरएसएस मुख्यालय जाना ऐतिहासिक घटना हैः आडवाणी


डीकेएस डेस्क, नई दिल्ली,
पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यक्रम में शामिल होने को ऐतिहासिक करार दिया है. लालकृष्ण आडवाणी ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा है कि प्रणब-भागवत ने वैचारिक विविधता के संवाद की नजीर पेश की है.बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की जमकर तारीफ की है.
संघ शिक्षा वर्ग-तृतीय वर्ष के समापन समारोह को ऐतिहासिक बताते हुए उन्होंने कहा कि गुरुवार को प्रणब मुखर्जी ने नागपुर स्थित आरएसएस मुख्यालय का दौरा किया और भारतीय राष्ट्रवाद पर अपने विचार रखे. यह हमारे देश के समकालिक इतिहास का बेहद महत्वपूर्ण कार्यक्रम रहा.उन्होंने कहा, ’आरएसएस के आजीवन स्वयंसेवक होने के नाते मेरा मानना है कि दोनों नेताओं ने वैचारिक विविधता के संवाद की प्रशंसनीय नजीर पेश की है.’
आरएसएस के आजीवन स्वयंसेवक और बीजेपी के दिग्गज नेता ने कहा कि उनका मानना है कि मुखर्जी और भागवत ने वैचारिक संबद्धताओं और मतभेदों से आगे बढ़कर संवाद का एक प्रशंसनीय उदाहरण सामने रखा है. एक बयान में उन्होंने कहा, ’दोनों ने भारत की एकता की जरूरत को रेखांकित किया है जो विविधताओं (जिसमें धार्मिक बहुलता शामिल है) को स्वीकार और सम्मान करती है.’

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें