दिल्ली मेट्रो के मजेंटा लाइन के उद्घाटन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को नहीं मिला आमंत्रण


डीकेएस डेस्क, नई दिल्ली,
दिल्ली मेट्रो की मजेन्टा लाइन का उद्घाटन 25 दिसंबर यानी सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किया जाएगा। यह देश की ऐसी तीसरी मेट्रो लाइन होगी, जिसका इस साल प्रधानमंत्री उद्घाटन करेंगे। इससे पहले, पीएम मोदी ने जून में कोच्चि मेट्रो और नवंबर में हैदराबाद मेट्रो का उद्घाटन किया था।
12.64 किलोमीटर लंबी यह लाइन नोएडा के बॉटनिकल गार्डन को दक्षिण दिल्ली के कालकाजी से जोड़ने वाली इस लाइन के उद्घाटन के लिए उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को तो बुलाया गया किन्तु दिल्ली मेट्रो में दिल्ली का 50 फीसदी पैसा लगा होने के बाद भी दिल्ली के मुख्यमंत्री को इस उद्घाटन समारोह के लिए निमंत्रण नहीं दिया गया है !
मेट्रो के बढ़े किराए पर केंद्र और दिल्ली मेट्रो के साथ तकरार के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कार्यालय ने कहा है कि मुख्यमंत्री को उद्घाटन समारोह का निमंत्रण प्राप्त नहीं हुआ है।
दिल्ली सरकार के एक प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी प्।छै को बताया, ’हमें कार्यक्रम की कोई आधिकारिक सूचना नहीं दी गई है। हमारी प्रथम प्राथमिकता यात्रियों के लिए सुरक्षित मेट्रो और किराये की उचित दर है और बात अगर उद्धघाटन की है तो हमें कोई निमंत्रण नहीं मिला है. यह सवाल डीएमआरसी और शहरी विकास मंत्रालय से पूछे जाने चाहिए।’
यह लाइन नोएडा को दक्षिणी दिल्ली से जोड़ेगी। दिल्ली मेट्रो का यह रूट कालकाजी से बॉटनिकल गार्डन तक होगा। इस लाइन के शुरू होने के बाद नोएडा और दक्षिणी दिल्ली के बीच यात्रा समय में कमी आएगी। मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त ने पिछले महीने 12.64 किलोमीटर वाले इस सेक्शन को सुरक्षा संबंधी मंजूरी दी थी। यह मार्ग बॉटनिकल गार्डन-जनकपुरी वेस्ट (मैजेंटा) लाइन का हिस्सा है। इस सेक्शन में मेट्रो की नई आधुनिक ट्रेनें चलेंगी, जो कि बिना चालक की मौजूदगी के भी चल सकती हैं।
वहीं दिल्ली मेट्रो की मजेन्टा लाइन के उद्घाटन समारोह में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को न बुलाए जाने पर आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है। ट्विटर पर उन्होंने लगातार तीन ट्वीट किए और पीएम मोदी के लिए ’संकीर्ण’ शब्द का इस्तेमाल किया। आशुतोष ने कहा, ’पीएम पूरे देश का होता है.. वो भेद नहीं कर सकता.. केजरीवाल से छुआछूत क्यों बरतते हैं.. वो चुने हुये मुख्यमंत्री हैं.. मेट्रो में दिल्ली का भी 50 फीसदी पैसा लगा है.. मेट्रो उद्घाटन में क्यों नहीं बुलाया? वाजपेयी ऐसा नहीं करते थे। हम अपने प्रधानमंत्री को इतना संकीर्ण होते नहीं देख सकते?’ आशुतोष इसके बाद एक और ट्वीट कर कि देश के प्रधानमंत्री कहते हैं ’सबका साथ, सबका विकास’। त्रासदी देखिये वो दिल्ली में रहते हुये दिल्ली के मुख्यमंत्री को साथ लेकर नहीं चल सकते। मिलने पर केजरीवाल के अभिवादन का जवाब तक नहीं देते वो सबका विकास कैसे कर सकता है? सोचियेगा जरूर?

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें