कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी ने पर्चा भरा

डीकेएस डेस्क, नई दिल्ली,
आज यानि सोमवार, 4 दिसंबर को राहुल गाँधी ने पार्टी अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल कर दिया। नामांकन के लिए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह उनके प्रस्तावक रहे।
सूत्रों के मुताबिक नामांकन के दौरान मनमोहन सिंह, अहमद पटेल, शीला दीक्षित, जितिन प्रसाद, वी नारायणसामी, मोहसिना किदवई, सिद्धरमैया, अशोक गहलोत, तरुण गोगोई, सुशील कुमार शिंदे और ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद रहे।
नामांकन के तुरंत बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया, गुलाम नबी आजाद, पी चिदंबरम और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर ने सोशल मीडिया के जरिए राहुल गांधी को बधाई दी। कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि राहुल एक अच्छे पीएम भी बनेंगे.अध्यक्ष पद के लिए 19 दिसंबर को काउंटिंग होगी और इसी दिन निर्धारित होगा कि कांग्रेस का अध्यक्ष कौन होगा, वैसे राहुल गांधी की सीट पक्की है क्योंकि उनके सामने अभी तक किसी और ने अपनी दावेदारी पेश नहीं की है।
राहुल इस पद पर अपनी मां सोनिया गांधी की जगह लेंगे। सोनिया बीते 19 सालों से कांग्रेस अध्यक्ष हैं।
राहुल गाँधी द्वारा नामांकन दाखिल करने के पहले महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता शहजाद पूनावाला कहा था डमी कैंडिडेट की नौटंकी क्यों?
रविवार को गुजरात के भरूच में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए मंच से शहजाद पूनावाला के इस कदम के लिए तारीफ की। पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को गुजरात की एक चुनावी रैली में कहा कि शहजाद (पूनावाला) नाम के एक युवक ने चुनाव प्रक्रिया को लेकर सवाल उठाए थे और आरोप लगाया था कि उसमें धांधली हो रही है। मोदी ने आरोप लगाया, ’वे (कांग्रेस) सहिष्णुता, सहिष्णुता, सहिष्णुता जैसे शब्द का जाप करते रहते हैं, लेकिन पार्टी ने इस युवक को शांत करने का फरमान दिया है। पार्टी ने उसे सभी व्हाट्सऐप ग्रुप से प्रतिबंधित कर दिया है। पार्टी ने उसका सामूहिक तौर पर बहिष्कार किया है।’ मोदी ने कहा, अगर कांग्रेस के अंदर लोकतंत्र है ही नहीं, तो देश में वह कैसे इसका पालन करेगी। प्रधानमंत्री के भाषण में अपने जिक्र के बाद शहजाद ने ट्वीट कर पीएम मोदी का शुक्रिया किया। उन्होंने लिखा, ’धन्यवाद। मैं वंशवाद की राजनीति के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखूंगा। मैं दबाव के आगे किसी को अपनी आवाज को नहीं दबाने दूंगा।’ इसके बाद कांग्रेस के आंतरिक चुनाव को ’धोखा और ढकोसला’ करार देने वाले शहजाद पूनावाला ने कहा कि उनके पास एक ऑडियो टेप है, जिसे वह सार्वजनिक करना चाहते हैं। पूनावाला ने कहा कि यह टेप उनके और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी के बीच हुई बातचीत का है।
शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस प्रेसिडेंट इलेक्शन को लेकर फिर सवाल उठाए हैं। उन्होंने सोमवार को चार ट्वीट किए।
पहला ट्वीटः मुझे सफदर हाशमी नहीं बनना
– शहजाद ने अपनी ट्वीट में लिखा, ’पार्टी के अंदर के शख्स ने मुझे बताया कि वंश (क्लदंेजल) के सलाहकार ’शहजादा’ के खिलाफ डमी कैंडिडेट उतारने पर विचार कर रहे हैं। सच ये कयामत क्यों है? वेल विशर ने यह भी कहा- शहजाद आज कांग्रेस दफ्तर पहुंचकर दूसरे सफदर हाशमी मत बनो। मेरी पार्टी के इतिहास का यह ब्लैक-डे है।’
– शहजाद ने अपनी इस ट्वीट के साथ कांग्रेस लीडर मणिशंकर अय्यर के उस आर्टिकल को अटैच किया, जिसमें उन्होंने ने भी वंशवाद का मुद्दा उठाया था। साथ ही मोदी का वह ट्वीट शेयर किया है, जिसमें कांग्रेस द्वारा शहजाद की आवाज दबाने की बात कही है।
तीसरा ट्वीटः राहुल जी से मेरे तीन सवाल
– अपने अगले ट्वीट में शहजाद ने राहुल से तीन सवाल किए। लिखा, ’राहुल जी मेरा पहला सवालः आप ताज लेकर जाते नॉमिनेशन पेपर नहीं तो क्या बेहतर नहीं होता? दूसरा सवालः आप मुझसे डर गए और (पार्टी का) सदस्य नहीं हूं ऐसा आपके चेलों ने कहा- पर मनीष नेता आपके नेता है ना? उनकी बातों पर आपकी राय? तीसरा सवालः क्या मैं ।प्ब्ब् आऊंगा तो सफदर हाशमी वाला हाल होगा?
चैथा ट्वीटः नॉमिनेशन की जरूरत नहीं
– इसमें शहजाद ने लिखा, ’राजा बनने के लिए नॉमिनेशन की जरूरत नहीं है।’

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें