कनॉट प्लेस में ऑफिस की छत पर महिला से छेड़छाड़


– नित्यानंद गायेन द्वारा सम्पादित, नई दिल्ली,
16 दिसम्बर 2012 को दक्षिण दिल्ली में अपने पुरुष मित्र के साथ बस में सफर के दौरान एक महिला के साथ जो भयंकर घटना घटी थी उसने पूरी दुनिया में मानवता को शर्मसार किया था। उस घटना ने भारतीय राजनीति और न्यायिक व्यवस्था में तूफान ला दिया था। उस घटना के बाद देश भर में विरोध और प्रदर्शन हुआ, बड़ी-बड़ी बातें कही गई, कानून में संशोधन हुआ पर हालात कहाँ तक सुधरे यह आज भी एक बड़ा प्रश्न है।
इसी दिल्ली में बीते वर्ष पेट्रोल पम्प पर गाड़ी में इंधन भरते वक्त दिल्ली विश्वविद्यालय की शिक्षिका पर हमला हुआ, उन्हें धमकियाँ दी गई यह सब कुछ सीसीटीवी में कैद हुआ पर हमलावर पकड़ा गया कि नहीं या उस पर क्या कार्यवाही हुई उसकी कोई जानकारी नहीं मिली आज तक। अभी पिछले सप्ताह ही एक पत्रकार के साथ दिल्ली पुलिस मुख्यालय के पास के आईटीओ मेट्रो स्टेशन पर एक आदमी ने हमला किया था। महिला मदद के लिए चीखती रहीं पर कोई नहीं आया और उन्होंने किसी तरह से खुद को बचाया। बाद में पुलिस ने एक आदमी को गिरफ्तार किया और बताया कि वह नशे में था। यह तो वो मामले हैं जो प्रकाश में आये और हम जान पाए । पर राजधानी सहित पूरे देश में रोज ऐसी क्रूर घटनाएँ होती हैं जिनमें से अनेक घटनाओं की जानकारी किसी को नहीं होती ।
अब राजधानी दिल्ली की मशहूर कनॉट प्लेस में एक लड़की के साथ छेड़छाड़ का मामला सामने आया है, खबर के मुताबिक लड़की का आरोप है कि किसी व्यक्ति ने उसकी ऑफिस की छत पर उसका हाथ पकड़ लिया और हस्तमैथुन करने लगा। यह घटना गुरुवार की दोपहर करीब 1ः30 बजे की है। पीड़ित महिला के मुताबिक उस वक्त उनका ब्रेक था। वह अपने ऑफिस की छर पर जा रही थी। तभी उसे लगा कि कोई उसका पीछा कर रहा है। इस घटना के बाद फिर से यह साफ हो गया है कि दिल्ली में महिलाएं सुरक्षित नहीं है।
पीड़िता ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसने आरोपी से पुलिस को फोन करने की धमकी दी। उसके बाद भी उसने उसे जाने नहीं दिया और हस्तमैथुन करने लगा। उसने भागने से पहले महिला का मोबाइल फोन भी छीन लिया। महिला चिल्लाने लगी तो उसकी आवाज सुनकर इमारत में मौजूद लोग अपने कार्यालयों से बाहर निकल आए।
महिला सीढ़ियों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में आरोपी की पहचान नहीं कर पाई। फुटेज में एक आदमी तो दिख रहा है लेकिन उसका चेहरा स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दिया। कनॉट प्लेस थाने में मामला दर्ज किया गया है। अभी आरोपी गिरफ्तार नहीं हो सका है।
एक और खबर दिल्ली से सटे गाजियाबाद से है। गाजियाबाद के एक रेहेब सेंटर में 17 वर्षीय लड़की के साथ रेप का मामला सामने आया है। इंडिया टुडे के अनुसार पीड़िता का आरोप है कि उसके साथ रेहेब के मालिक ने रेप किया। पश्चिमी दिल्ली की रहने वाली 12वीं कक्षा की छात्रा काफी लम्बे समय से अपने पिता की शराब छुड़ाने में लगी थी। पीड़िता के पिता का ट्रांसपोर्ट का बिजनेस है। पीड़िता ने अपने पिता को कई बार रेहेब भेजा लेकिन वह उनकी शराब छुड़ाने में नाकाम रही। एक के बाद एक रेहेब में जाने के कारण पीड़िता का पिता बहुत हिंसक और गुस्से वाला बन गया था। इसी बीच जुलाई 2016 में पीड़िता को गाजियाबाद स्थित हैप्पी हॉम्स नामक एक रेहेब का पता चला। मेल टुडे से बातचीत में पीड़िता ने बताया कि “मुझे हैप्पी हॉम्स के बारे में ऑनलाइन डायरेक्टरी पोर्टल के जरिए पता चला जो कि मेरे बजट में था।
उनसे मैंने संपर्क किया तो उन्होंने मुझे आश्वस्त कराया कि वे मेरे पिता को छह महीने के भीतर-भीतर ठीक कर देंगे। पीड़िता ने अपने पिता को रेहेब में एडमिट कराया लेकिन उसे नहीं पता था कि यह उसके लिए एक बहुत बड़ा अपराध बन जाएगा। पीड़िता ने बताया कि दो दिनों के बाद मुझे रेहेब से फोन आया जो कि रेहेब मालिक का था। उसने मुझसे कहा कि तुम्हारे पिता मानसिक तौर पर परेशान हैं और वे इस बारे में मुझसे बात करना चाहते थे। मैंने उनसे कहा कि मेरी मां घर पर नहीं है और ऐसे में रेहेब सेंटर आना मेरे लिए मुमकिन नहीं है। इसके बाद उन्होंने मुझसे कहा कि तुम्हें इतना दूर आने की जरुरत नहीं है और वे मेरे लिए महिपालपुर के एक हॉटल में पिता के मनोचिकित्सक से मिलने का इंतजाम कर देंगे। पीड़िता द्वारा पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार वह रेहेब मालिक के साथ हॉटल पहुंची। वहां वह पिता के मनोचिकित्सक से बातचीत कर ही रही थी कि उसी दौरान उसने कॉल्ड ड्रिंक पी ली, जिसमें पहले से नशीला पदार्थ मिलाया हुआ था।पीड़िता ने पुलिस को बताया कि अगले दिन जब उसे होश आया तो उसने खुद को बिना कपड़ों के रेहेब मालिक के साथ बेड पर पाया। जब पीड़िता ने रेहेब मालिक पर गुस्सा किया तो उसने पीड़िता को धमकी दी कि वह उसके पिता की हत्या कर देगा। इतना ही नहीं आरोपी ने पीड़िता की आपत्तिजनक तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल करने के भी धमकी दी। पीड़िता के पिता की जनवरी 2017 में मृत्यु हो गई लेकिन जबतक उसके पिता का रेहेब में इलाज चला आरोपी पीड़िता के साथ रेप करता रहा।
उधर झारखंड के एक स्कूल में 7 साल की बच्ची के साथ यौन उत्पीड़न के आरोपी प्रिंसिपल ने मीडिया के सामने अपना गुनाह कबूल करते हुए बेहद शर्मनाक बयान दिया। प्रिंसिपल ने अपने बचाव में कहा कि उसके द्वारा की गई यह एक छोटी सी गलती थी, क्योंकि उसने बच्ची के साथ इंटरकोर्स (सेक्स) नहीं किया था। कोडरमा जिले में एक स्कूल के प्रमुख 67 साल के एस। जेवियर ने बुधवार कथित तौर पर अपर केजी में पढ़ने वाली इस बच्ची को स्कूल के टॉयलेट में लेकर गया था, जहां उसने बच्ची के कपड़े उतारकर उसके साथ अश्लील हरकत की। जब बच्ची चिल्लाने लगी, तो उसने उसे कुछ पैसे दिए और कहा कि वह किसी को भी इस बारे में कुछ नहीं बताए। गिरफ्तारी के बाद मीडिया के सामने उसने कबूल किया, हां मैंने ऐसा किया, लेकिन यह इतनी बड़ी गलती नहीं थी। इस मामले में कोई यौन संबंध नहीं बनाए गए थे। मैं साफ तौर पर बता दूं कि मैं ऐसा नहीं कर सकता, क्योंकि अब मैं उम्रदराज हो चुका हूं। यह एक हादसा भर था।

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें