अखिलेश बने सपा विधानमण्डल दल के नेता

Image result for पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

भाषा: सपा अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आज सर्वसम्मति से पार्टी विधानमण्डल दल का नेता चुन लिया गया।

अखिलेश ने पार्टी विधानमण्डल दल की बैठक में कहा कि देश की राजनीति एक खतरनाक मोड़ पर है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अपने कट्टरपंथी एजेंडा को भाजपा सरकारों के माध्यम से लागू करने की साजिश कर रहा है।

सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने ‘भाषा’ को बताया कि पार्टी विधानमण्डल दल की राज्य मुख्यालय पर बैठक हुई, जिसमें पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव को सर्वसम्मति से विधानमण्डल दल का नेता चुन लिया गया।

उन्होंने यह भी बताया कि विधानमण्डल दल ने विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष के चयन का अधिकार भी अखिलेश को दे दिया है। बैठक के बाद अखिलेश ने अहमद हसन के नाम पर मुहर लगा दी।

विधानमण्डल दल की आज की बैठक में शिवपाल और आजम खां नहीं पहुंचे। माना जा रहा है कि मजबूत दावेदारी होने के बावजूद अखिलेश ने इन दोनों को विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बनने का मौका नहीं दिया। इससे दोनों ही नेता नाराज हैं।

अखिलेश ने कल अपने विश्वासपात्र विधायक रामगोविन्द चौधरी को वरिष्ठ विधायक खां और शिवपाल पर तरजीह देते हुए विधायक दल का नेता मनोनीत किया था। सपा के सबसे बड़ा विपक्षी दल होने के नाते चौधरी ही नेता प्रतिपक्ष होंगे।

अखिलेश ने आज बैठक में विधानसभा चुनावों के नतीजों का जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा ने इन चुनावों में राजनीतिक भ्रष्टाचार का परिचय कराया है। भाजपा सरकार के पास उत्तर प्रदेश के विकास की कोई योजना नहीं है। झूठे वादे करके यह सरकार बनी है। प्रदेश की जनता को सुनियोजित तरीके से गुमराह किया गया है। यह भ्रष्ट राजनीति का एक नया रूप सामने आ रहा है।

उन्होंने कहा कि देश की राजनीति एक खतरनाक मोड़ पर है। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ अपने कट्टरपंथी एजेंडा को भाजपा सरकारों के माध्यम से लागू करने की साजिश रच रहा है। इससे देश का धर्मनिरपेक्ष स्वरूप खतरे में पड़ने की आशंका है।

लेखक के बारे में

उत्तर छोड़ दें